3 साल में नए कुलपति मिल जाते हैं, स्नातक की डिग्री नहीं मिलती

3 साल में नए कुलपति मिल जाते हैं, स्नातक की डिग्री नहीं मिलती

राज्य के विवि का हाल 3 साल की डिग्री 5 साल में मिल रही

साल बरबाद होने की कीमत का अंदाजा सबको है। विश्वविद्यालयों में कुलपतियों के लिए एक साल की कीमत उनके पूरे कार्यकाल का एक तिहाई हिस्सा है लेकिन छात्रों के लिए एक साल की वरवादी उनके कॅरियर में दाग की तरह है। स्नातक की डिग्री 3 साल में मिलनी है लेकिन विहार के विवि में यह 4 से 5 साल में पूरी हो रही है। तीन साल में कुलपति की कुर्सी पर बैठे प्रशासक तो बदल जाते हैं लेकिन डिग्री नहीं मिलने से छात्र उस दफ्तर का चक्कर लगाते रहते हैं। वक्त पर डिग्री नहीं मिलने के नुकसान तो कई हैं लेकिन जो सीधा नुकसान है वो छात्रों का है। स्नातक के बाद अगर बिहार के अधिकतर विवि में पढ़ रहे किसी विद्यार्थी को जेएनयू, दिल्ली विवि या किसी ऐसे विवि में उच्च शिक्षा के लिए जाना हो तो करेंट सेशन में यह मुश्किल है।

3 नए विवि बने, नतीजा

अनियमित सत्र के चलते राज्य सरकार ने 2018 में तीन नए विवि की स्थापना की। उससे पहले तक दलील ये थी कि विवि का कार्यक्षेत्र इतना बड़ा हो जाता है कि एकेडमिक और प्रशासनिक नियंत्रण, दोनों बाधित होता है। तब 2018 में मगध विवि से अलग कर पाटलिपुत्र विवि की स्थापना इसी तरह तिलकामांझी भागलपुर विवि से अलग मुंगेर विवि और बीएन मंडल विवि से अलग पूर्णिया विवि बना। लेकिन स्थापना के तीन साल बाद भी हालात जसकी तस है। कुछ पुराने विवि की कमी है तो कुछ नए विवि की लापरवाही, लेकिन लेट सत्र होने का खमियाजा छात्र लगातार भुगत रहे हैं।

विश्वविद्यालयों की लेट-लतीफी की ताजा स्थिति

बीआर आंबेडकर विवि स्नातक स्तर पर 2019 में नामांकन लेने वाले छात्रों को पहले साल की मार्कशीट का इंतजार है। 2018-21 में नामांकन के लिए सेकंड ईयर की प्रक्रिया का इंतजार है।

बीआर आंबेडकर विवि

मगध विवि : यहां की लेटलतीफी पाटलिपुत्र विवि को भी प्रभावित कर रही है।

मगध विवि

पाटलिपुत्र विविः सत्र 2018-21 स्नातक सेकंड ईयर की परीक्षा नहीं हुई है, 2019-22 फर्स्ट ईयर का शेड्यूल भी जारी नहीं हुआ है। पीजी 2018- 20 थर्ड सेमेस्टर की परीक्षा लंबित है। वीर कुंवर सिंह विवि : यूजी स्तर पर सत्र 2018-21 सेकंड ईयर, सत्र 2019-22 फर्स्ट ईयर की परीक्षाएं लंबित हैं। पीजी स्तर पर भी सत्र 2018-20 फस्ट व थर्ड सेमेस्टर का रिजल्ट लंबित है।

पाटलिपुत्र विवि

तिलकामांझी विविः सत्र 2018 -21 सेकंड ईयर, सत्र 2019-22 फस्टं ईयर के अलावा पीजी स्तर पर सत्र 2018-20 सेकंड सेमेस्टर के पूरा होने का 1 साल से इंतजार कर रहे हैं।

बीएन मंडल विवि सत्र 2019 22 फस्स्ट ईयर के साथ पीजी स्तर पर सत्र 2018-20 सेमेस्टर वन पूरा होना पिछले एक साल से प्रक्रियाधीन है।

कामेश्वरसिंहदरभंगा संस्कृत विविः यूजी स्तर पर सत्र 2017-20 अबतक लंबित है और पीजी का सत्र 2017- 19 भी पूरा नहीं हुआ है।

जय प्रकाश विविः यूजी स्तर पर सत्र 2017-20 थर्ड ईयर का पूरा होना शेष है। दूसरे सत्रों का भी यही हाल है। पीजी का सत्र 2018-20, जो पिछले साल जून तक समाप्त हो जाना था।

जय प्रकाश

दो को छोड़ हर विवि का स अनियमित

पटना विवि और एलएनएमयू को छोड़ सभी विवि का सत्र अनियमित है। पटना विवि में सत्र 2020-21 में स्नातक पार्ट श्री की परीक्षाओं की तिथि घोषित हो चुकी है लेकिन दूसरे किसी विवि में ऐसा नहीं है। हर विवि में यूजी और पीजी दोनों की परीक्षाएं लंबित हैं। पाटलिपुत्र विवि में स्नातक 2019-22 का शेड्यूल भी तैयार नहीं है। तिलका मांझी विवि, जय प्रकाश विवि, संस्कृत विवि दरभंगा, बीआर आंबेडकर विवि और मगध विवि में सत्र 2017-20 अभी भी समाप्त नहीं हुआ है।

Rn college Telegram group – Click here

Rn college Facebook group – Click here

Bihar University info – Click here

Twin Tower videos: ताश के पत्तों की तरह ढह गया नोएडा का ट्विन टावर, देखिए कैसे आसमान तक उठा धूल का गुबार

Twin Tower videos: ताश के पत्तों की तरह ढह गया नोएडा का ट्विन टावर, देखिए कैसे आसमान तक उठा धूल का गुबार

Twin Towers Videos: नोएडा के सेक्टर 93 ए में स्थित ट्विन टावर्स अब इतिहास बन गए हैं। धमाके के साथ दोनों इमारतों को गिरा दिया...