चार कॉलेजों का अनुदान रुका, इसमें प्राचार्यों की लापरवाही, भुगतेंगे छात्र

चार कॉलेजों का अनुदान रुका, इसमें प्राचार्यों की लापरवाही, भुगतेंगे छात्र

उपयोगिता प्रमाण पत्र नहीं देने वाले बिहार विवि के 4 कॉलेजों पर विवि अनुदान आयोग ने बड़ी कार्रवाई की है। आयोग ने इन कॉलेजों का अनुदान रोकने का निर्णय लिया है। इनमें एमजेके कॉलेज बेतिया, एसएलके कॉलेज सीतामढ़ी एवं केसीटीसी कॉलेज रक्सौल शामिल है। ये तीनों कॉलेज विवि के अंगीभूत कॉलेज हैं, जबकि भूतनाथ कॉलेज संबद्ध कॉलेज है। अनुदान रुकने पर कॉलेजों के विकास के कार्य ठप हो जाएंगे। इसका खामियाजा छात्र भुगतेंगे। इस संबंध में आयोग का पत्र विवि आने के बाद कॉलेजों में हड़कंप मचा है।

विवि अधिकारियों को भी जवाब देते नहीं बन रहा। दरअसल, 9वें से लेकर 12वें प्लान में यूजीसी से विकास, उपस्कर की खरीदारी आदि मद में कॉलेजों को अनुदान राशि मिली थी, इन कॉलेजों न तो समय पर उपयोगिता प्रमाण पत्र भेजा और न ही आयोग के किसी पत्र का जवाब ही दिया।

विवि के इंस्पेक्टर ऑफ कॉलेज आर्ट्स डॉ. प्रमोद कुमार ने कहा, आयोग ने इसी वजह से सख्त कदम उठाया है। विवि को कॉलेजों की लिस्ट दी गई है। एक दर्जन अन्य कॉलेजों को जल्द नए फॉर्मेट में अनुदान का हिसाब देने का निर्देश दिया गया है, लेकिन बार- बार यूजीसी के पत्र का भी जवाब नहीं देने पर 4 कॉलेजों पर अनुदान रोकने की कार्रवाई होगी।

अनुदान रुकने पर कॉलेजों के विकास कार्य ठप होंगे

कॉलेज का 12-बी का दर्जा वापस लेगा आयोग, इसी पर मिलता है अनुदान आयोग कॉलेजों के इंफ्रास्ट्रक्चर, फैकल्टी आदि को देखते हुए 12-बी का दर्जा देता है। यह दर्जा रहने पर ही विकास मद में अनुदान राशि मिलती है। सख्ती दिखाते हुए आयोग इसे वापस लेगा। विवि का कहना है, पत्र में सीधी कार्रवाई कार्रवाई की बात कही गई है, लेकिन यह चेतावनी है या दर्जा छिनेगा। यह कहना अभी जल्दबाजी होगी।

Rn college Telegram group – Click here

Rn college Facebook group – Click here

Bihar University info – Click here

BRABU : बिहार यूनिवर्सिटी के छात्र अब वेबसाइट से डाउनलोड कर सकेंगे अपना सर्टिफिकेट, यहां जानिए पूरी प्रोसेस

BRABU : बिहार यूनिवर्सिटी के छात्र अब वेबसाइट से डाउनलोड कर सकेंगे अपना सर्टिफिकेट, यहां जानिए पूरी प्रोसेस

BRABU BIHAR UNIVERSITY: बिहार यूनिवर्सिटी में छात्र अब अपने सर्टिफिकेट वेबसाइट से डाउनलोड कर सकेंगे। बिहार विवि प्रशासन इस पर विचार कर रहा है। यूनिवर्सिटी...