ब्रेकिंग न्यूज: बिहार यूनिवर्सिटी में फर्जी बहाली का रैकेट चलाने में दो क्लर्क गिरफ्तार, यहाँ पढ़ें पूरी खबर

ब्रेकिंग न्यूज: बिहार यूनिवर्सिटी में फर्जी बहाली का रैकेट चलाने में दो क्लर्क गिरफ्तार, यहाँ पढ़ें पूरी खबर

BRABU : बीआरए बिहार यूनिवर्सिटी की फर्जी वेबसाइट और रजिस्ट्रार के नाम से फर्जी बैंक अकाउंट खोलकर बेरोजगारों को बहाली का झांसा देकर ठगी करने पर शुक्रवार को पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की।

विवि की फर्जी वेबसाइट व रजिस्ट्रार के नाम से फर्जी बैंक खाता खोला

यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार कार्यालय का क्लर्क विक्रम कुमार और एलएनटी कॉलेज का क्लर्क मनीष कुमार इस रेकेट का मास्टर माइंड निकला। पटना साइबर सेल की जांच में दोनों की पोल खुल गई जिसके बाद यूनिवर्सिटी थाने की पुलिस ने दोनों को दबोच लिया। विक्रम को आमगोला की साह गली और मनीष को सदर थाना के मझौली धर्मदास स्थित घर से गिरफ्तार किया गया।

एसएसपी जयंतकांत ने बताया

एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि यूनिवर्सिटी पुलिस ने दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेशकर जेल भेज दिया। इनके मोबाइल जब्त कर लिए गए जिसका इस्तेमाल वेबसाइट बनाने के दौरान किया गया था। तीन साल पहले यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर बहाली के लिए रिक्तियां जारी होने का हवाला देकर बहाली की प्रक्रिया जानने के लिए बेरोजगार युवक रजिस्ट्रार ऑफिस में संपर्क करने लगे। तब यूनिवर्सिटी के कुलसचिव के संज्ञान में मामला आया।

फर्जी वेबसाइट और बैंक खाता खोलकर बेरोजगारों को ठगने की साजिश में कार्रवाई

इसके बाद तत्कालीन रजिस्ट्रार अजय कुमार राय ने विवि थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी। इसमें उन्होंने पुलिस को बताया था कि विवि की फर्जी वेबसाइट बनाई गई है जिस पर अलग-अलग पदों पर 34 रिक्तियां दिखाकर बहाली फर्जीवाड़ा का रैकेट चलाया जा रहा है। फर्जी वेबसाइट पर तीन कैशियर, छह लोअर डिविजन कलर्क, 12 सीनियर डिविजन कलर्क, पांच असिस्टेंट, पांच सेमी प्रोफेशनल असिस्टेंट और तीन लाइब्रेरी अटेंडेंट की बहाली का विज्ञापन दिया गया जबकि विवि प्रशासन की ओर से इस तरह की कोई वेबसाइट या बहाली का विज्ञापन नहीं दिया गया।

दो साल तक पुलिस ने नहीं की जांच

विज्ञापन जारी करने के साथ ही साइबर फ्रॉड के शातिरों ने रजिस्ट्रार के नाम का फर्जी बैंक अकाउंट भी खोल लिया था। इस खाते में फीस की राशि जमा कराने के लिए कहा गया था। एफआईआर के बाद दो साल तक पुलिस ने कोई जांच नहीं की। आईजी की समीक्षा में मामला सामने आया, तब इसकी जांच के लिए पटना की साइबर सेल को मदद के लिए पत्र भेजा गया।

पटना साइबर सेल की जांच में खुली पोल, घर से हुई दोनों की गिरफ्तारी

साइबर सेल ने साइट बनाने की जांच की। इसमें रजिस्ट्रार ऑफिस के क्लर्क विक्रम कुमार और प्रतिनियुक्ति में एलएनटी कॉलेज से रजिस्ट्रार ऑफिस में काम कर रहे मनीष कुमार की पोल खुल गया। साक्ष्य सामने आने के बाद एसएसपी जयंतकांत ने इसकी समीक्षा की और गिरफ्तारी का आदेश जारी कर दिया। इसके बाद दोनों की गिरफ्तारी हो सकी।

Telegram Group – Click here

Facebook Group – Click Here

Bihar News – Click Here

Join WhatsApp – Click Here

BRABU: ₹500 रुपये विलंब शुल्क के साथ पार्ट-1 का परीक्षा फॉर्म भरने के लिए शनिवार को एक दिन के लिए खुला पोर्टल, छात्र जल्द भरे परीक्षा फॉर्म

BRABU PG 1st Semester Practical Exam : आज से शुरू होगी पीजी 1st सेमेस्टर की प्रेक्टिकल परीक्षा, यहां जानें जरूरी गाइडलाइंस

BRABU PG 1st Semester Practical Exam : आज से शुरू होगी पीजी 1st सेमेस्टर की प्रेक्टिकल परीक्षा, यहां जानें जरूरी गाइडलाइंस

BRABU 1st PG Semester Practical Exam: बिहार यूनिवर्सिटी BRABU की ओर से PG सत्र 2021-23 के 1st सेमेस्टर के विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षा और मौखिकी...