AddText 05 05 11.21.32

BRABU : दिसंबर में होगी PAT- 2021 की परीक्षा, एग्जाम शेड्यूल जल्द, यहां जाने पूरी डिटेल्स

BRABU PAT 2021 : बिहार यूनिवर्सिटी में पैट 2021 की परीक्षा दिसंबर में ली जाएगी। इसके लिए छह माह पहले ही आवेदन लिया जा चुका है। करीब 2100 छात्रों ने इसके लिए आवेदन किया है।

पैट 2020 का कोर्स वर्क शुरू हो चुका

यह जानकारी शनिवार को यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार प्रो. राम कृष्ण ठाकुर ने दी। उन्होंने बताया कि पैट 2020 का कोर्स वर्क शुरू हो चुका है अब विवि पैट 2021 की परीक्षा लेने की तैयारी में जुट गया है।

छह महीने पहले ही इसके लिए आवेदन लिया गया

यूनिवर्सिटी की ओर से छह महीने पहले ही इसके लिए आवेदन लिया गया था। आवेदन के लिए एक महीना पहले दोबारा पोर्टल खोला गया था। पैट में सबसे अधिक आवेदन हिंदी और इतिहास विषय के लिए आए हैं।

जल्द ही परीक्षा का कार्यक्रम भी यूनिवर्सिटी जारी करेगा

रजिस्ट्रार ने बताया कि जल्द ही परीक्षा का कार्यक्रम भी यूनिवर्सिटी जारी करेगा। परीक्षा यूजीसी की 2016 रेगुलेशन के तहत ली जाएगी। परीक्षा में सवाल ऑबजेक्टिव पूछे जाएंगे।

अगस्त महीने से पीएचडी छात्रों का कोर्स वर्क शुरू हुआ

यूनिवर्सिटी में पीएचडी का सत्र एक वर्ष की देरी से चल रहा है। पैट 2020 की परीक्षा 2021 में हुई थी, लेकिन रिजल्ट जारी होते-होते वर्ष 2022 आ गया। अगस्त महीने से पीएचडी छात्रों का कोर्स वर्क शुरू हुआ है। पैट 2021 की परीक्षा पिछले वर्ष ही हो जानी चाहिए, लेकिन परीक्षा नहीं हुई।

BRABU Part 1 Exam Guidelines 2021-24 : स्नातक पार्ट- 1 की परीक्षा 18 से, छात्र एवं छात्राओं के लिए परीक्षा गाइडलाइंस जारी, यहां पढ़ें पूरी गाइडलाइंस

कभी परीक्षा तो कभी रिजल्ट जारी होने में हुई देरी :

विवि में पैट परीक्षा कभी आसान नहीं रही। छह साल बाद वर्ष 2019 में परीक्षा हुई। परीक्षा तीन बार कैंसिल होने के बाद चौथी बार सफलतापूर्वक हुई। अगले वर्ष 2020 में कोरोना के कारण परीक्षा नहीं हुई।

वर्ष 2021 में जब परीक्षा का रिजल्ट अगस्त में जारी किया गया तो गड़बड़ी सामने आई। कॉपियों की दोबारा जांच हुई। इसका रिजल्ट आने में पांच माह लग गए। इसके बाद परीक्षा बोर्ड से पास करा नए सिरे से रिजल्ट को जारी किया गया।

रिजल्ट आने के बाद इंटरव्यू कराने में भी यूनिवर्सिटी को समय लगा। जनवरी में लिखित परीक्षा का रिजल्ट आने के सात महीने बाद छात्रों का इंटरव्यू हुआ।

पीएचडी कराने में नई शिक्षा नीति का होगा पालन

यूनिवर्सिटी में इस बार पीएचडी कराने में नई शिक्षा नीति का पालन किया जाएगा। शिक्षकों की कमी रहने पर रिटायर शिक्षक भी शोध करा सकेंगे। पैट 2020 में 1137 छात्रों का चयन हुआ है।

यूनिवर्सिटी के शिक्षकों ने बताया कि पीजी विभागों में शिक्षकों का अभाव है इसलिए रिटायर शिक्षकों को कोर्स वर्क कराने के लिए बुलाया जाएगा। यूजीसी के 2016 रेगुलेशन में इसका जिक्र है।

वहीं, पीएचडी परीक्षा 21 के लिए आवेदन करने वाले छात्रों ने बताया कि हमलोग छह महीने से परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं। हमलोगों ने दूसरे विवि में भी आवेदन नहीं किया। इससे उनका एक वर्ष खराब हो गया है।

परीक्षा फॉर्म समेत अन्य सभी अपडेट के लिए Join करे

Telegram Group – Click here

Facebook Group – Click Here

Follow On Google News – Click on Star 🌟

Join WhatsApp – Click Here

Scroll to Top